शांत रहो

शांत रहो और देखो। परिणाम निश्चित है – उपाय और समय निश्चित नहीं है ।

आशीर्वाद |

संदर्भ : श्रीमातृवाणी (खण्ड -१६)

प्रातिक्रिया दे