अपमान और तिरस्कार

अपमान, तिरस्कार से ऊपर उठ जाने से आदमी सचमुच बड़ा हो जाता है ।

संदर्भ : माताजी के वचन(भाग-२)

प्रातिक्रिया दे