मनुष्य

यदि सारे विश्व में मनुष्य जैसा दुर्बल कोई नहीं हैं तो उस जैसा दिव्य भी नहीं है ।

संदर्भ : मातृवाणी (भाग-२)

प्रातिक्रिया दे