जीवंत भगवान

जो ज्ञान तुझे जीवन में प्राप्त है बस वैसा ही बन और उसी को जीवन में उतार; तभी तेरा ज्ञान होगा तेरे अन्दर विद्यमान जीवंत भगवान।

संदर्भ : विचारमाला और सूत्रावली 

प्रातिक्रिया दे