देने का तरीका

श्रीमाँ दोनों तरीकों से देती हैं – नेत्रों के द्वारा चैत्य को प्रदान करती हैं और अपने हाथों द्वारा भौतिक वस्तुएँ देती हैं ।

संदर्भ : माताजी के विषय में 

प्रातिक्रिया दे