सत्य

सत्य लकीर की तरह नहीं सर्वांगीण है, वह उत्तरोत्तर नहीं बल्कि समकालिक है । अतः उसे शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता : उसे जीना होता है ।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग-२)

प्रातिक्रिया दे