औरों की राय

तुम औरों की मनोभावनाओं और सनको का अपने ऊपर असर नहीं पड़ने देते  – यह बात बिलकुल ठीक है। तुम्हें इस सबसे ऊपर उठकर भगवान की सतत उपस्थिती, प्रेम और सुरक्षा का अनुभव करना चाहिये।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग-२)

प्रातिक्रिया दे