भौतिक जीवन

अपने भौतिक जीवन से संतोष की कोई आशा न करो और तुम उसके साथ बंधे न रहोगे ।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग-२)

प्रातिक्रिया दे