चरित्र

यह न मानो कि काम बदलने से तुम्हारा चरित्र भी बदल जायेगा । यह पहले भी कभी सफल नहीं हुआ है ।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग-२)

प्रातिक्रिया दे