मेरा शरीर

केवल उस समय जब मनुष्यों के विकास के लिए यह आवश्यक नहीं रह जाएगा कि मेरा शरीर उनके समान रहे, तब यह स्वयं को अतिमानस से संयुक्त करने के लिए स्वतंत्र हो जाएगा ।

संदर्भ : माताजी का अजेंडा (भाग-१)

प्रातिक्रिया दे