रूपान्तर

जो रूपान्तर के लिये तैयार हैं वे उसे किसी भी जगह कर सकते हैं । और जो तैयार नहीं है वे जहां कही भी हो नहीं कर सकते ।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग -३)

प्रातिक्रिया दे