समय की चिंता

पहले से यह निर्धारित मत करो कि तुम्हारा आदर्श किस समय और किस तरीके से पूरा होगा। कार्य करो और समय तथा तरीके को सर्वज्ञ भगवान पर छोड़ दो ।

संदर्भ : विचारमाला और सूत्रावली 

प्रातिक्रिया दे