उदार हृदय

उदार हृदय हमेशा पुराने दुर्व्यवहारों को भूल जाता है और दुबारा सामंजस्य लाने के लिए तैयार रहता है ।

आओ, हम सब उसको भूल जाएँ जो अतीत में अंधकारमय और कुरूप है, ताकि ज्योतिर्मय भविष्य को ग्रहण करने के लिए हम अपने-आपको तैयार कर सकें।

संदर्भ :  श्रीमातृवाणी खण्ड-१७

प्रातिक्रिया दे