दुखों से छुटकारा

भगवान के प्रति सच्चे और निष्कपट निवेदन में ही हम अपने अति-मानवीय दुखों से छुटकारा पा सकते हैं ।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग-२)

प्रातिक्रिया दे