समग्र समर्पण

यदि सत्ता का कोई अंग समर्पण करे और कोई दूसरा अंग जहाँ-का-तहाँ अड़ा रह जाये, अपने ही रास्ते पर चलता चलें या अपनी शर्तों को सामने रखे तो यह समझ लो कि जब-जब ऐसा होगा तब-तब तुम आप ही उस भगवती प्रसाद-शक्ति को अपने पास से दूर हटा दोगे ।

संदर्भ : “माता”

प्रातिक्रिया दे